26.3 C
New York
Saturday, June 19, 2021

Buy now

📚️संत रविदास जी की कथा👏

      एक पंडित जी गंगा स्नान करने रोज जाते थे, रास्ते मे संत रविदास जी दूकान पड़ती थी। जिसमें वो जूते सिलने का काम करते थे, संत रविदास जी चमार जाती से थे इसलिए पंडित जी उन्हे शुद्र कहते थे। दूर से ही राम राम करके चले जाते, एक दिन पंडित जी की जूती टूट गयी तो सोचा संत रविदास से बनवा लूंगा।

   गंगा स्नान करने जाते समय रास्ते मे रविदास जी के दुकान के सामने रुके और बोले रविदास हमरी जूती बना दो। टूट गयी हैं। पंडित जी उनके पास नहीं गए। सङक पर ही खड़े रहे।

   रविदास जी ने कहा पंडित जी बैठिए जब तक मै आपकी जुटी बना देता हूँ, पंडित जी बोले नहीं रविदास मै शुद्र के निकट नहीं आता। तुम्हारे पास आने से मै आपवित्र हो जाऊंगा। तुम मेरी जूती बना कर दे दो। जो मजदूरी हो ले लो।

 रविदास जी ने कहा ठीक है पंडित जी, संत रविदास जी ने जूती बनाते हुए पंडित जी से पूछा पंडित जी कहा जा रहे हैं आप? 

  पंडित जी बोले मै गंगा स्नान करने जा रहा हूं। तुम कभी समय निकाल कर जाया करो। मानव जीवन मिला है कुछ धर्म करम भी किया करो संत जी बोले जी पंडित जी और उनकी जुती उन्हे दे दी। 

पंडित जी ने पूछा कितना मजदूरी हुई रविदास जी बोले पंडित 2 पैसा हुई। ये कहते हुए रविदास जी बोले पंडित जी आप ये पैसे मेरी तरफ से गंगा जी को चढ़ा देना मेरे। आपके ही हाथो कुछ धर्म कर्म हमरी तरफ से हो जाएगा। पंडित जी हा रविदास अच्छा सोचे हो। इतना कह कर पंडित जी गंगा की तरफ चल दिए।

      गंगा स्नान के बाद पंडित जी आने लगे तो उन्हे ध्यान आया कि रविदास का 2 पैसा गंगा जी को चढ़ाया नहीं। पंडित जी गंगा जी मे 2 पैसा फेंकते हुए बोले गंगा जी ये रविदास ने आपको चढ़ाने को बोला था। इसे स्वीकार करिए।

  इतना कह कर 2 पैसा गंगा जी मे डाल दिये। घर आने के लिए मुड़े, तब तक एक स्त्री की मधुर आवाज पंडित जी के कानो मे आई कि रूकिए पंडित जी रविदास ने मुझे कुछ दिया है तो मेरी तरफ उनके लिए भी कुछ मेरी तरफ से भेंट लेते जाइए और रविदास जी को दे देना।

    पंडित जी बोलती बंद थी। तब तक गंगा जी ने एक हाथ निकला और पंडित जी को एक रत्न जड़ित कंगन दे दिया। पंडित जी कंगन लेकर आने लगे। इतना कीमती कांगन देखकर पंडित जी के मन मे लालच आया कि ये कंगन राजा के यंहा दूँगा तो अच्छा इनाम मिलेगा।

   कौन सा रविदास जान रहा है कि गंगा जी ने उसे भेंट दिया है। यही सब सोच कर पंडित जी राजा के महल की ओर जाने लगे।

  महल में पहुंच कर पंडित जी राजा से बोले राजन मै आपको एक अमूल्य, वस्तु भेंट करना चाहता हूं। इतना कहते हुए पंडित जी गंगा जी द्वारा दिया रत्न जड़ित कंगन निकल कर राजा के हाथ मे दे दिया, राजा ने कंगन देख कर कहा पंडित सचमुच ये अमूल्य है। राजा वो कंगन रानी के पास भिजवा दिया। 

 रानी को कंगन बहुत पसंद आया, पर एक ही हाथ का रहने से रानी ने राजा से उसी तरह दूसरे हाथ का कंगन लाने के लिए कहा। राजा ने आपने राज्य के अच्छे जौहरी को बुलाया और उसी तरह का दूसरा कंगन बनाने को कहा पर सारे जौहरी उसी तरह का कंगन न बना पाने असमर्थता व्यक्त की और उसी तरह का रत्न न मिलने की। राजा परेशन हो गया और रानी ने जिद कर ली।

  राजा के परेशानी को देख कर मंत्री ने कहा, राजन आप उसी तरह का कंगन उन्ही पंडित जी से लाने को कहिए क्यूँकि एक हाथ कंगन उनके पास है तो दूसरे हाथ का भी उनके पास होगा। राजा ख़ुश हो गया। तुरंत पंडित जी को सैनिक भेज कर बुलावया। पंडित जी से दूसरे हाथ के कंगन की मांग की। पंडित जी ने राजन मेरे पास एक ही हाथ का कंगन था। जो मैंने आपको भेंट कर दिया।

राजा ने कहा पंडित जी, भला कोई एक ही हाथ का कंगन बनवाता है। आप झूठ बोल रहे हैं आप के पादूसरे हाथ का भी कंगन है। पंडित जी के कहने का राजा ने विश्वास न किया और दूसरे कंगन लाने को कहा। और न लाने पे कठोर सज़ा देने को कहा। पंडित जी गंगा जी से यह कंगना मिलने की बात बता नहीं सकते थे।

  पंडित जी चिंतित हो गए। और दुखी मन से घर आए। उनकी पत्नी ने चिंतित और दुखी देखा तो कारण पूछा। पंडित जी ने सारी घटना बताया। उनकी पत्नी ने कहा। आप ने लालच में आकर गलती की। आप संत रविदास जी के पास जाकर सब घटना बता कर माफी माँग लीजिए। वही अपको बचा सकते हैं।

   पंडित जी तुरंत संत रविदास जी के पास जाने के लिए चल पड़े, और उनके निकट जाकर बैठ गए। संत जी ने अरे पंडित जी ये क्या कर रहे हैं आप मुझ शुद्र के पास बैठ रहे। आप अपवित्र हो जाएँगे। पंडित जी कुछ न बोले और सर नीचे कर लिया। और दुखी मन से सारी घटना बताया। और हाथ जोड़ते हुए कहा आप ही मुझे बचा सकते हैं।

 संत जी मुस्कुराते हुए कहा बस इतनी सी बात है। इतना कहते हुए रविदास जी ने काठ के बर्तन में रखे पानी में हाथ डाला और दूसरा कंगन निकल कर पंडित जी को दे दिया। पंडित जी आश्चर्यचकित रह गए। और समझ गए कि ये कोई परम संत है। और उनके चरणों में गिर गए और उन्हे माफी मांगी।

संत रविदास जी पहले रामानंद जी के शिष्य थे बाद मे रामानंद जी के आदेश से कबीर साहिब जी के शिष्य बने।अब सोचने की बात है कि जब उनके शिष्य में इतनी शक्ति थी तो उनके गुरु में जो कि पूरे ब्रह्मांड के रचयिता हैं उनमें क्या क्या शक्तियों हो सकती।

  शास्त्रानुकूल साधना से ही मोक्ष की प्राप्ति की जा सकती है।आज पुरे विश्व में शाशत्रानुकुल साधना केवल संत रामपाल जी महाराज ही बताते है। आध्यात्मिक जानकारी के लिए आप संत रामपाल जी महाराज जी के मंगलमय प्रवचन सुनिए। 

 साधना चैनल पर प्रतिदिन शाम 7:30 से 8.30 बजे 
 श्रधा चैनल पर प्रतिदिन दोपहर 2:00से 3:00 बजे

  सत साहिब जी
must watch now full story 

वर्तमान समय में वेदों और सभी शास्त्रों के अनुसार वे ही पूर्ण संत रामपाल जी महाराज हैं, जिनकी गवाही कई नबियों ने अपनी भविष्यवाणियों में और कुछ महान संतों ने अपने लेखन में बताया है।

यह कहा जा सकता है कि क्योंकि हमने इंटरनेट पर खोज की है, हमने देखा है कि सभी इतिहास के महान संत और सभी धर्मों के पवित्र ग्रंथ आदि एक ही संत महात्मा संत रामपाल जी महाराज की ओर इशारा कर रहे हैं।

आइए परमाणुओं के साथ चर्चा करें कि वे संत रामपाल जी महाराज हैं या अन्य: –

संत तुलसीदास ने अपनी पुस्तक जय गुरुदेव आदि में लिखा है कि “भविष्य में रासायनिक बम फेंके जाने चाहिए, जिससे तीसरा विश्व युद्ध होगा”।

1972 में अपनी किताब में वह भारत पर रासायनिक बम भी फेंकेंगे। लेकिन भारत में वह संत उन सबको रोक देगा।

  • संत रविदास जी ने 16वीं सदी में अपनी किताबों में कहा था “कि 21वीं सदी में इटली में बड़ी संख्या में लोग मारे जाएंगे।”

जैसा कि अभी चल रहा है। यह महामारी दुनिया में तबाही मचा रही है, लेकिन भारत में एक ऐसा गुरु आएगा जो दुनिया में शांति लाएगा।

फ्रांसीसी भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस ने पद २० में कहा था ”कि संत का जन्म एक हिंदू परिवार में होगा। वही महापुरुष संसार को सच्चा ज्ञान देगा और उसे इस संसार से मुक्त करेगा। वह उस क्षेत्र में पैदा होगा जहाँ पाँच नदियाँ होंगी”

अमेरिकी भविष्यवक्ता फ्लोरेंस ने 1960 में लिखा था ”कि 2000 के बाद विश्व राजनीति बदल जाएगी। एक दूसरे में तनी हुई रहेगी। जिससे तीसरा विश्व युद्ध शुरू हो जाएगा, लेकिन भारत में एक ऐसा गुरु होगा जो अपने ज्ञान आदि से तीसरे विश्व युद्ध को रोक देगा’

इन नबियों की भविष्यवाणियों से सिद्ध होता है कि वे संत रामपाल जी महाराज हैं। प्रदान करेगा। और सभी को अपने इंटरनेट पर संत रामपाल जी महाराज के बारे में खोजना चाहिए, और खुद तय करना चाहिए कि वे एक महान संत हैं या कोई और।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,992FansLike
2,819FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles