28.7 C
New York
Friday, June 18, 2021

Buy now

हरी धनिया और पुदीना के २१ ऐसे लाभ जिसे जानकर आपके होश उड़ जायेगे?, coriander leaves

जिसे जाने क बाद आप भी इन औषधियों का सेवन करने लगेंगे, चलिए जानते है-

  1. धनिया खाने के 21 फायदे और लाभ –2 glass पानी में 2 चम्मच साबुत धनिया भिगो कर चार घंटे बाद पानी को छानकर आँखें बंद करके चेहरा रोजाना १-२ महीने तक लगातार धोयें |

fayde – चहरे का कालापन दाग और धब्बे दूर होकर चेहरा गोरा और सुन्दर हो जायेगा |

घमोरियां होने पर इस पानी से Bath (स्नान) करें, हाथ और पैरों को भी इस पानी से धोने पर वह भी सुन्दर हो जायेंगे |

पसीने के दुर्गन्ध नहीं आएगी हाथ पैर धोने स्नान के लिए धनिया और पानी अधिक मात्रा में लें | पचास ग्राम धनिया में स्वादानुसार पिसा काला नमक मिलाकर रखें | खाना खाने के बाद एक चम्मच धनिया पानी के साथ फांकी लें |

इस तरह शरीर की आतंरिक खूबसूरती तो बढ़ेगी ही और इसके साथ-साथ शरीरिक स्वस्थता भी बनी रहेगी |

benefits :-

रोग निरोधक(disease repellent):-

बनाने की विधि(recipe) :-

एक मसाला तैय्यार कर हमेशा रसोई में रखें | सारी चीजें पीसी हुई – धनिया 30 gram, जीरा 30 gram, हल्दी 20 gram, सोंफ 10 gram, सोंठ 10 gram और कालीमिर्च और तेजपत्ता भी 10-10 gram लें दालचीनी 5 gram अब सबको मिलाकर 2 चम्मच घी में भुने और कांच की शीशी में भर लें |

जब खाना परोसे तो हर सब्जी, चटनी की कटोरी पर थोड़ा सा यह मसाला डालें | इस मसाले से सब्जियां और ज्यादा Tasty हो जाएगी |

लाभ(benefits) :-

कफ, खांसी, दमा, टी.बी , रक्तप्रदर, सिप्लिस, छाले, बवासीर आदि रोगों में लाभ होगा और शरीर में ताकत बढ़ेगी | इस मसाले को आप हमेशा उपयोग में ले सकते हैं, यह आपको बीमारियों से दूर रखने में मदद करेगा |

2. कामोत्तेजना(Sexual arousal):-

खाने की विधि(recipe) :-

🔷शांत करने के लिए 3 चम्मच धनिया रात को पानी में भिगोकर सुबह पानी छानकर एक बार जरूर पियें | इससे स्वप्नदोष और कामवासना की अधिकता से आई कमजोरी भी दूर हो जाएगी |

🔷कामोंमांद हो तो 2 चम्मच पिसा धनिया रोजाना 2 बार फांकी लें |

🔷जब भी कामवासना के विचार आएं, ताड़ासन करें | पंजो के बल खड़े होकर हाथ सीधे ऊपर की और खींचे | सर आकाश की और रखें |

वासनामय विचार नष्ट होंगे ।स्वप्नदोष और औरतों में श्वेतप्रद में लाभ होगा |

3. स्वप्नदोष से छुटकारा(Get rid of nightmares):-

खाने की विधि(Recipe) :-

🔷सूखा धनिया कूट पीसकर छान लें | इसमें सामान मात्रा में पीसी हुई चीनी मिलाएं |

🔷सुबह भूखे पेट रात के बासी पानी से एक चाय के चम्मच से फांकी लें और एक घंटे तक कुछ न खाएं, पियें |

🔷यदि कब्ज हो तो रात को सोते समय 2 चम्मच इसबगोल की भूसी गर्म दूध से लें |

🔷इससे स्वप्नदोष बहुत जल्दी ठीक होता है | मूत्राशय की जलन में भी लाभ होता हैं |

4. चोट के दर्द को दूर करें(Relieve the pain of injury):-

🔷चोट लग गई हो या चोट की वजह से नीला धब्बा बन गया हो, सूजन दर्द होता रहा हो तो धनिये और हल्दी दोनों पीसी हुई को सामान्य मात्रा में मिलाकर, रसोई का तेल डालकर, इन दोनों को तवे पर अच्छे से भून लें |

🔷इसे चोट ग्रस्त अंग पर लेप करके रूई लगाकर पट्टी से बाँध लें | नीला धब्बा, सूजन, चोट का दर्द इस नुस्खे से थोड़े ही दिनों के में ठीक हो जायेगा |


5.जल्द थकावट दूर करें(Get tired soon):-

काम करते हुऐ थकावट आ गई हो , पैदल चलने से थकावट आ गई हो तो उसी समय सूखे धनिये के 20 दाने चबाये थकावट दूर हो जाएगी |

यात्रा के दौरान इन बीजों को एक डिब्बी या किसी भी तरह रख कर ले जाये | साथ ही पैरों को घुटनों तक ठन्डे पानी में डुबोये रखें या घुटनो से निचे पैरों तक ठंडा पानी डालें | तुरंत आपको राहत मिलेगी |

6. मिर्गी आना बंद हो जाती है(Epilepsy stops):-

🔶एक किलो पानी में 50 gram धनिया डालकर इतना उबालें की तिन हिस्सा पानी बाकी रह जाए फिर इसे छानकर स्वादानुसार नमक मिलाकर इसके चार भाग करके रोजाना चार बार पिएं |

🔶 इससे जल्द ही मिर्गी के दौरे आना बंद हो जाता है |

7.मसूड़ों में रक्तसडाव(Bleeding gums) – धनिया पत्ती के फायदे:-

50 ग्राम धनिया एक किलो पानी में उबालकर छानकर रोजाना दो बार कुल्ला करने से मसूड़ों में रक्त आना बंद हो जाता है |

8. पुराने दस्त, इरिटेबल बाउल सिंड्रोम(Chronic diarrhea, irritable bowel syndrome): –

लम्बे समय से दस्त होते रहे हैं, रोजाना ही पांच-छह: बार पतले दस्त होते हैं, गैस बहुत निकलती है

तो एक चम्मच साबुत बिना पिसा हुआ धनिया, एक चम्मच चीनी दोनों चबा- चबाकर खाएं और आखिर में पानी के साथ निगल जाएँ |

फायदे दस्त, पेट के रोगों में लाभ होगा | रात को धनिया पानी में में भिगोकर प्रांत: पानी छानकर बुरा, शक्कर मिलाकर रोजाना पिएं | यह अनुभूत हैं |

9. तिल लाल मस्से दूर करें(Remove sesame red wart ):-

(आर्ट्स) पर सुखा या हरा पट्टीदार धनिया पीसकर लेप करने से वे मिट जाते हैं और न ही नए तिल निकलते | यह दो माह तक लगाएं | आपको जबरदस्त लाभ होगा |

10. सिरदर्द दूर भगाए(Get the headache away):-

🔶चार चम्मच धनिया और दो चम्मच मिश्री एक गिलास पानी में उबालकर आधा पानी रहने पर छानकर पिएं | सर्दी-जुकाम से उत्पन्न सिरदर्द जल्द ही ठीक हो जायेगा |

🔶और अगर आपको छींक भी बहुत आती हो तो सिर्फ धनिये के पत्ते सूंघे इससे छींक आना बंद हो जाएगी |

11. मीग्रैन से आराम(Get rid of migraine):-

🔶पिसे हुए सूखे धनिये में पानी डालकर पेस्ट बनाकर ललाट पर लेप करें | इससे मिग्रने में जल्द ही फायदा होता हैं | जब मिग्रने हो ऐसे लगाए इससे चमत्कारी लाभ होंगे |


12. गर्मी के वजह से सिरदर्द(Headache due to heat):-

  • सुखा धनिया दस ग्राम, गुठली रहित सुखा आंवला पांच ग्राम रात को मिटटी के पात्र में एक गिलास पानी में भिगो दें | सुबह मलकर मिश्री मिलाकर, छानकर पिलाएं |
  • यह गर्मी के कारण होने वाले सिरदर्द में फायदेमंद होता हैं |
  • जब आपको सामान्य सिरदर्द हो तो धनिये को पीसकर उसका लेप बनालें और उसे सर पर लगा लें इससे सिरदर्द में आराम मिलेगा |

13. गर्मी में लाभदायक(Beneficial in summer):-

🔷रात को सोते समय मिटटी के बर्तन में 2-3 glass पानी में पांच चम्मच सुखा धनिया भिगो दें | सुबह इसमें अपने taste के हिसाब से मिश्री मिलाकर पि जाएँ |

🔷इससे जल्द ही गर्मी के रोगों में आराम मिलेगा, जैसे पेशाब में जलन होना, पेशाब में रुकावट आना, नकसीर से खून बहना, गर्मी के वजह से चक्कर व घबराहट होना आदि गर्मी के रोगों में फायदा होगा |

🔷इससे गर्भिणी स्त्री को ज्यादा लाभ होते हैं |

14. गले में दर्द व जलन(Sore throat and burning sensation):-

इसके लिए हर 3 घंटे के भीतर 2 चम्मच साबुत सूखा धनिया चबा-चबाकर रस चूसते रहे | यह गले के सभी रोगों में आराम देता हैं | खासकर गर्मी से होने वाले दर्द में लाभदायक होता है.


15. शरीर में जलन होना(Body irritation):-

शरीर में जलन होती हो, हाथ पैर में जलन होति हो तो पिसा हुआ सुखा धनिया और मिश्री सामान्य मात्र में मिलाकर सुबह शाम 2-2 चम्मच खाएं |

इससे शारीर की सारी गर्मी निकल जाएगी |

पैरों की जलन – सुखा धनिया 10 ग्राम को भिगोकर पीसकर ठंडाई की तरह तैयार करके पिने से शरीर के दाह (जलन) खासकर पैरों की जलन में लाभ होता है |

इससे बवासीर में रक्त आना भी बंद हो जाता है |


16.पथरी की शिकायत (Path Complaint):-

60 ग्राम सुखा धनिया एक किलो पानी में डालकर उबालें अच्छा उबलने पर पानी को छान लें | इसमें एक कप मूली का रस और अपने taste के हिसाब से सेंधा नमक मिला लें |

खाने की विधि(Recipe) :-

  • इसकी पांच-पांच चम्मच सुबह-शाम खाना खाने के बाद पियें | इससे पथरी के टुकड़े होकर निकल जाएगी |
  • पथरी से बचने के लिए नमक कम मात्रा में खाएं और पानी जितना हो सके उतना पिएं |
  • सूखा साबुत धनिया,सोंफ, मिश्री सब 50-50 ग्राम लें और 1 लीटर पानी में रात को भिगो दें |
  • सुबह इनको इसी पानी में पीसकर अच्छे से छानकर इसी पानी को पिएं,
  • अगर आप एक बार में यह सार पानी नहीं पि सकते तो थोड़ा-थोड़ा करके पिएं |
  • इससे पेशाब खुलकर आएगी जिससे पथरी के टुकड़े होकर निकलने में आसानी होगी।

17. Cholesterol को कम करें(Reduce Cholesterol):-

चार चम्मच साबुत सुखा धनिया एक गिलास पानी में उबालकर, आधा पानी रहने पर ठंडा होने दें | गुनगुना पानी रहने पर छानकर एक बात जरूर पियें | इससे पेशाब ज्यादा आएगा, Cholesterol कम होगा |


18. अनियमित मासिक धर्म(Irregular menstruation):-

खाने की विधि :-

🔷2 चम्मच पिसा हुआ धनिया एक गिलास पानी में इतना उबालें की पानी एक चौथाई रह जाए | इसे उतार कर, आधा चम्मच अदरक का रस मिलाकर छानकर रोजाना दिन में एक बार जरूर पियें |

🔷कुछ सप्ताह सेवन करने से मासिक धर्म नियमित व सही समय पर आने लगेगा |


19. गंजेपन से छुटकारा(Get rid of baldness):-

खाने की विधि :-

हरे धनिये की पत्तियों का रस लगाएं, रस से मालिश करें | बालों को रस से भिगोकर 15 मिनट बाद बाल धोएं | इससे बाल उगेंगे, बालों का गिरना बंद होगा, बाल मुलायम और काले होंगे |

20.कब्ज दूर करें:-

पिसे हुए सूखे धनिये की 2 चम्मच रात को पानी से फांकी लें | सुबह मल साफ़ आएगा |

धनिया 10 चम्मच, हरड़ का चूर्ण एक चम्मच, काला नमक आधा चम्मच सबको मिलाकर खाने के बाद 2 चम्मच गर्म पानी से फांकी लें पुराणी कब्ज वाले इसे लम्बे समय तक लें |

हरा धनिया, काला नमक, कालीमिर्च, जीरा सबकी चटनी बनाकर रोजाना दो बार खाना कहते समय खाएं |

21. भूख न लगना(Loss of appetite):-

कूटा हुआ सुखा धनिया दो चम्मच एक गिलास पानी में उबालकर, छानकर इसमें टेस्ट के हिसाब से दूध व शक्कर डालकर पियें | इससे भूख अच्छी लगेगी |

भूख बढ़ाने के लिए धनिया, कालीमिर्च, मिश्री, इलाइची (छोटी) सब पीसी हुए थोड़ी-थोड़ी मात्रा में लेकर थोड़े से घी में मिलाकर खाएं |


22. खाना न पचना(Non cooking):-

🔶2 चम्मच धनिया, आधा चम्मच सोंठ, 1 गिलास पानी में उबालकर आधा पानी रहने पर छानकर दो बार रोजाना पिने से अपच दूर हो जाती हैं |

🔶पिसा धनिया, पीसी मिश्री, एक-एक चम्मच मिलाकर रोजाना दो बार पानी से फंकी लेने से अमाशय की दुर्बलता अपच ठीक हो जाती हैं

🔶पत्ती के फायदे सावधानी – जिन्हें यौनशक्ति दोबलय हो, दमा, ब्रोनेकिट्स हो वे धनिया कम से कम खाएं | सुखा या हरा धनिया अधिक मात्रा में सेवन करने से शुक्राणु, कामशक्ति कमजोर होति है |

🔶स्त्रियों का मासिक धर्म रुक सकता है..


2. औषधीय पौधे ‘पुदीना’ के क्या उपयोग हैं?


पुदीना हमारे खाने में स्वाद बढ़ाने के अलावा अपने औषधीय गुणों के कारण भी बहुत ही उपयुक्त है | अपने इन्हीं गुणोंके कारण ही पुदीना लंबे समय से रसोईघर में अपनी खास जगह बना चूका है |

पुदीना में विटामिन ए, बी ६, सी, इ, के, बीटा कैरोटीन, राइबोफ्लेविन, पोटाशियम, कैलशियम जैसे कई सारे खनीज़ भी पाये जाते हैं। पुदीना में मौजूद मेन्थॉल शरीर और मन पर ठंडा और शांत प्रभाव डालता है |

इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल, जीवाणुरोधी गुणधर्म होते है |


१. पाचन शक्ति वर्धक(Digestive power)

पुदीना का मुख्य उपयोग पाचनतंत्र के विकारों में होता है | पुदीना हाज़मे को मजबूत करता है | बार बार होने वाले अपचन, पेट दर्द, पेट फूलना जैसी पाचन से जुडी बिमारियों में पुदीना बहुत ही उपयुक्त है।

२. कीटाणुनाशक(Disinfectant):-

पुदीना में बहुत ही अच्छे कीटाणुनाशक तत्व है। पुदिना के पत्ते चबानेसे मुँह के अंदर कीटाणुओं का बढ़ना रुकता है जिससे साँस की बदबू जैसी समस्या में फायदा होता है | साथ ही में यह दाँत और जीभ को साफ़ रखता है |

साँसो में ताज़गी लाता है |

३. गर्मी से बचाव(Heat protection):-

पुदीना गर्मी के लिए एक बहुत ही लाभदायक औषधी है | गर्मी में बाहर निकलने से पहले पुदीने के रस का सेवन करने से लू ही नहीं लगेगी।


४. श्वसनतंत्र के विकार(Respiratory disorders):-

पुदीना श्वसनतंत्र के विकारों के लिए एक कारगर औषधी है। यह सर्दी, अस्थमा में काफी आराम पहुंचाता है।

🔶पुदीने के रस को नमक के पानी के साथ मिलाकर कुल्ला करने से गले का भारीपन दूर होता है और आवाज साफ होती है।

🔶पुदीने का रस कालीमिर्च और काले नमक के साथ चाय की तरह उबालकर पीने से जुकाम, खाँसी और बुखार में राहत मिलती है।

५. त्वचा के लिए फ़ायदे(Benefits for skin):-

पुदीना त्वचा के लिए काफी फ़ायदेमंद है |

पुदीने का रस या पुदीना के पत्ते और गुलाब जल का मिश्रण रोज रात को सोते हुए चेहरे पर लगाने से कील, मुहाँसे और त्वचा का रूखापन दूर होता है।

हाल ही में प्रकाशित कुछ शोध कार्यों से यह पता चला है कि पुदीने में स्थित कुछ एंजाइम कैंसर से बचा सकते हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,992FansLike
2,817FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles